Daughters

“A daughter may outgrow your lap, but she will never outgrow your heart.”~Author Unknown

We are four sisters and I have experienced the people’s reaction coming after been apprised that our parents were blessed with four daughters. I have mentioned it to be a blessing but people around did not accept us as blessings rather they took us as curses of the Almighty. Even people of today feel the same. You may feel that I am been harsh in using such words but it’s a truth that stands Naked in today’s scenario too.

Nowadays, there is only one change that I find in is that the people (the outsiders or family members) don’t express freely. The same words are delivered and the same emotions emoted as it was in our times, only the tone has changed. Still people say the same in a hush-hush tone.

Navigating in the past times, I clearly remember those reactions that writ large on their faces on the mention of four daughters and I hated those faces & disliked their reactions and at times, I used to be furious on their comments and it pinched me a lot.

But four decades before people were Bold in their expressions or believed in Right to Freedom of Speech and they delivered well without giving it a second thought of the impact on the peppy daughters and their parents.

I think I won’t be able to forget those remarks though I live life boldly as a woman of substance and now none can compete me on the dais of debates, “Sons Verses Daughters.” I won’t be easy for a person contemplating to indulge in the discussions, it will be a tough time for a person and might face the music for taking me on ride.
People, please don’t try on me.

My suppressed emotions are enraged and I am on fire….I am easy, you will find me cool as an ice till I am not provoked.

These days, you will find people searching a daughter-in-law and often people comment that the scene of society has changed and it is easy to get a match for a daughter than for a son.

It’s very true and one fine day, I scribbled few words in Hindi in favour of a Girl or a Daughter.

My Poem

हमारी लाडली

चंचल और चपल,

नाजुक और कोमल

मनमोहिनी यही हैं

पहचान हमारी लाडली की ॥

घर आँगन गुलशन

रहे इसके आगमन से

फिर भी समाज को नहीं भाती

जन्म हमारी लाडली की ॥

भूल जाते हैं लोग

यही है सृष्टि रचने वाली

इसी ने हमें जन्म दिया

और बढाया घऱ संसार ॥

बालपन में बापू के

आँगन की श्रिृंगार

यौवन में इठलाती चली

अपने बालम के द्वार

इक संसार को सुना कर

चली बसाने अपना घऱ संसार

बाबुल ने किया खुशी

बिदा अपनी लाङली

यही सदियों से चलती आई संस्कार ॥

सहमी – सहमी

आँखों में हसीऩ सपने लिए

चली सजाने बालम का घर संसार

नया घर नया परिवेश

जोड़ती हर नये रिशतों को

खुद को अटूट बंधन में ॥

बालम का हर सपना सजा

मनमोहिनी के आगमऩ से

किया न्योछावर खुद को

सराबोर बलमा के प्यार में ॥

कच्ची कली खिल गई

बलमा के अधिकाऱ में

नया जन्म पाया

ममता से परिपूर्ण

किलकारियों से गूजीं

खिलीं नये सुमन से

बगिया हमारी लाङली की ॥

शोख हसीना बन गई माँ

रात भऱ जागती

करती सेवा अपने बगिया की

भूल अपना साज़ श्रिृंगार ॥

भोर होती किलक़ाऱियों से

कब ढल जाता दिन

प्यार दुलार से सिंचती

अपना घर संसार

भूल अपने बाबूल का संसार

जिस घर में पली बड़ी

वही घर हो जाता परदेश ॥

सुबह से शाम तक

घिरनी सी नाचती

बच्चों को सिंचा

ममता की छावों में

आँख़ों में सपने सजाए

अऱमाऩ लिए खुशियों की

लूटा दिया ममता ही हर क़ीमत

कर के समस्त न्योछावर

हमारी लाडली॥

कितने रिशतों में ख़ुद को पिरोती

बन जीवनसंगिनी और माँ

बहऩ, भाभी और बहू

हज़ार कोशिशों के बाद भी

होती कभी अगर भूल

तो सुन लेती दुहाई अपने संस्कारों की

सुख़ दुःख़ हैं जीवन के दो पहलू

यही सोच फुसलाती ख़ुद को

हमारी लाडली॥

इतनी त्याग पर भी

क्या वह सम्मान पाती

घर में बड़ों का शासन

बाहर में ज़ालिम संसार

लोगों की ऩजर भेदती

चीरती उसकी छाती

नज़ऱों से बचाती अपने यौवन को॥

हम भी दोहरी ज़िंदगी जीते

घर में पूजते लक्ष्मी और दुर्गा

घर की लक्ष्मी को दुतकारते

जिस जऩनी ने हमें जन्म दिया

क़ोख में उसकी हत्या होती

चाह लिए बेटों की

पर क्या हम सज़ा पाएगें

बेटों का घऱ संसार

बिना जन्म हमारी लाडली की॥

© Ila Varma 2016

Source: here

 

This blog post is inspired by the blogging marathon hosted on IndiBlogger for the launch of the#Fantastico Zica from Tata Motors. You can apply for a test drive of the hatchback Zica today.

 

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s